दुनिया की सबसे गहरी सोने की खदान में काम बंद, 164 कर्मचारी संक्रमित

Spread the love

धरती के अंदर कई किलोमीटर गहरी इस सोने की खदान में काम करने वाले 650 कर्मचारियों की जांच की गई थी. जितने भी लोग कोरोना संक्रमित निकले हैं, उनमें कोरोना के लक्षण नहीं हैं.

कोरोना वायरस का असर अब दुनिया की सबसे गहरी सोने की खदान पर भी हो गया है. अब यहां काम बंद हो गया है. दक्षिण अफ्रीका के पोनेंग गोल्ड माइंस में काम करने वाले 164 लोगों को कोरोना वायरस का संक्रमण हो गया है. इसके बाद इस खदान को चलाने वाले कंपनी एंग्लोगोल्ड अशांति ने यहां काम बंद करने का निर्देश जारी कर दिया है.

आपको बता दें दक्षिण अफ्रीका में इस समय 22,500 से ज्यादा कोरोना केस हैं. जबकि इसकी वजह से 429 लोगों की मौत हो चुकी है. एंग्लोगोल्ड अशांति का कहना है कि सभी संक्रमित कर्मचारियों को आइसोलेशन में रख गया है. सामान्य दिनों में यहां हर दिन 4 हजार कर्मचारी खनन के लिए जमीन के भीतर जाते थे. यह खदान इतनी गहरी है कि इसमें 10 एंपायर स्टेट बिल्डिंग समा जाए. इस खदान के अंदर कुल सुरंगों की लंबाई 380 किलोमीटर है.

एक महीना बंद रखने के बाद काम शुरू हुआ था

कंपनी ने ये भी कहा है कि बीते सप्ताह कोरना संक्रमण का पहला मामला सामने आने के बाद 650 कर्मचारियों की जांच कराई गई है. यह खान पहले एक महीना बंद थी. लेकिन पिछले महीने इसमें काम शुरू हुआ था. लेकिन अब इसे फिर बंद करने की नौबत आ गई है.

Hindi News/ खबरें/ख़बरें जरा हटकेFeedback
दुनिया की सबसे गहरी सोने की खदान में काम बंद, 164 कर्मचारी संक्रमित
धरती के अंदर कई किलोमीटर गहरी इस सोने की खदान में काम करने वाले 650 कर्मचारियों की जांच की गई थी. जितने भी लोग कोरोना संक्रमित निकले हैं, उनमें कोरोना के लक्षण नहीं हैं.
दुनिया की सबसे गहरी सोने की खदान पोनेंग गोल्ड माइंस. (फोटोः विकिपीडिया)दुनिया की सबसे गहरी सोने की खदान पोनेंग गोल्ड माइंस. (फोटोः विकिपीडिया)

aajtak.in
नई दिल्ली, 25 मई 2020, अपडेटेड 20:20 IST

4 किमी गहरी है यह सोने की खदानजोहानिसबर्ग से 75 किलोमीटर दूर है
कोरोना वायरस का असर अब दुनिया की सबसे गहरी सोने की खदान पर भी हो गया है. अब यहां काम बंद हो गया है. दक्षिण अफ्रीका के पोनेंग गोल्ड माइंस में काम करने वाले 164 लोगों को कोरोना वायरस का संक्रमण हो गया है. इसके बाद इस खदान को चलाने वाले कंपनी एंग्लोगोल्ड अशांति ने यहां काम बंद करने का निर्देश जारी कर दिया है.

आपको बता दें दक्षिण अफ्रीका में इस समय 22,500 से ज्यादा कोरोना केस हैं. जबकि इसकी वजह से 429 लोगों की मौत हो चुकी है. एंग्लोगोल्ड अशांति का कहना है कि सभी संक्रमित कर्मचारियों को आइसोलेशन में रख गया है. सामान्य दिनों में यहां हर दिन 4 हजार कर्मचारी खनन के लिए जमीन के भीतर जाते थे. यह खदान इतनी गहरी है कि इसमें 10 एंपायर स्टेट बिल्डिंग समा जाए. इस खदान के अंदर कुल सुरंगों की लंबाई 380 किलोमीटर है.

एक महीना बंद रखने के बाद काम शुरू हुआ था

कंपनी ने ये भी कहा है कि बीते सप्ताह कोरना संक्रमण का पहला मामला सामने आने के बाद 650 कर्मचारियों की जांच कराई गई है. यह खान पहले एक महीना बंद थी. लेकिन पिछले महीने इसमें काम शुरू हुआ था. लेकिन अब इसे फिर बंद करने की नौबत आ गई है.

अमेजन के जंगलों में भी पहुंच गया कोरोना, खतरे में कबीले, साइंटिस्ट हैरान

दक्षिण अफ्रीका में कोरोना वायरस को रोकने के लिए मार्च में लॉकडाउन लगाया था. इस दौरान किसी भी गोल्ड माइन में काम नहीं हुआ. अभी जो लोग संक्रमित मिले हैं उनमें कोरोना के कोई लक्षण नहीं देखे गए हैं. गहरी खदानों में काम करने वाले कुछ कर्मचारियों ने काम पर लौटने को लेकर चिंता जताई है.

खदान में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन मुश्किल

खदान के काम में सबसे बड़ी दिक्कत है कि ऐसा काम करने के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग लागू करना बड़ा मुश्किल है. मई की शुरुआत में एक लेबर यूनियन ने कोर्ट में केस जीता था जिसके बाद सरकार को वर्कर्स की सुरक्षा के लिए कड़े दिशा-निर्देश जारी करने पड़े थे.

4 किलोमीटर गहरी है यह सोने की खदान

पोनेंग गोल्ड माइन दक्षिण अफ्रीका में जोहानिसबर्ग के दक्षिण-पश्चिम में स्थित है. खदान की गहराई पृथ्वी के अंदर करीब 4 किलोमीटर है. दक्षिण अफ्रीका में वेस्ट विट्स के क्षेत्र में वेपर्सडॉर्प कॉन्टैक्ट रीफ (वीसीआर) में सोने की खान मिलती हैं. पोनेंग में जमीन के नीचे सबसे गहरी खान में ग्रिड आयरन तकनीक के जरिए सोना निकालने का कम करती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *